Best Bhagavad Gita Quotes in Hindi by Lord Krishna

हम सभी को जीवन में समस्याएं होती हैं, और कभी-कभी उन समस्याओं का सामना करना और समझना कठिन होता है, इसलिए यहां भगवद गीता के कुछ उद्धरण(bhagavad gita quotes in hindi) दिए गए हैं जो आपको जीवन के सबक सीखाएंगे।

एक भारतीय के रूप में, चाहे आपने भगवद गीता के बारे में नहीं देखा हो या नहीं पढ़ा हो पर भगवद गीता के कुछ उद्धरण(bhagavad gita quotes in hindi) तोह जरूर सुने होंगे, या यदि आप दुनिया के किसी अन्य देश के हैं, तो शायद आपने भी इसके बारे में सुना होगा।

भगवद गीता (bhagavad gita quotes in hindi) में क्या शामिल है?

यह जीवन और मृत्यु का ज्ञान है; यह जीवन के उद्देश्य का ज्ञान है, यह ज्ञान है कि मानव क्या है या क्या उचित और अनुचित है, क्या सत्य है और आपका शरीर और मन आत्मा से कैसे भिन्न हैं और हम जानवरों से कैसे भिन्न हैं, क्या इतना अलग है?

यह वह समय है जब महाभारत होने वाला था, और अर्जुन ने कृष्ण से युद्ध के समय एकत्र हुई दोनों सेनाओं की जाँच करने के लिए कहा। तब कृष्ण ने समय को रोक दिया और दुर्योधन के पक्ष में जाकर अर्जुन को बताया और उसे उनके द्वारा किए गए पापों और पुण्यो के बारे में बताया और पांडवों द्वारा भी।

कृष्ण अर्जुन को सत्त्व, तमस और राजस के बारे में बताते हैं। कृष्ण की अनंतता के बारे में अर्जुन बताते हैं। कृष्ण बताते हैं कि सभी को मृत्यु का सामना करना पड़ता है, और किसी को भी इससे डरना नहीं चाहिए।

कृष्ण, अर्जुन को योग और भक्ति के बीच बंधन के बारे में बताते हैं। अर्जुन को इस बारे में पता चलने के बाद, वह चाहता है कि कृष्ण उसे कृष्ण के वास्तविक अवतार में आशीर्वाद दें।

भगवद गीता(bhagavad gita quotes in hindi) में सभी सकारात्मकता और जीवन में तनाव को संभालने और सही कारणों से लड़ने का संकलन है। सुख और दुःख क्या हैं और आप इसे कैसे प्राप्त करते हैं।

(READ MORE: RADHA-KRISHNA LOVE QUOTES IN HINDI)

भगवद गीता (bhagavad gita quotes in hindi) जीवन का सार है, और जीवन का शुद्ध ज्ञान जो कृष्ण ने खुद बताया था जो विष्णु के अवतार हैं। सबसे महत्वपूर्ण भगवद गीता उद्धरण(bhagavad gita quotes in hindi) की एक झलक है जो हमें जीवन का पाठ पढ़ाती है।

bhagavad gita quotes in hindi with images
(bhagavad gita quotes in hindi)

व्यक्ति जो चाहे बन सकता है, यदि वह विश्वास के साथ इच्छित वस्तु पर लगातार चिंतन करें।

मैं समस्त प्राणियों के ह्रदय में विद्यमान हूं।

 मैं सभी प्राणियों को एकसमान रूप से देखता हूं। मेरे लिए ना कोई कम प्रिय है ना ज्यादा, लेकिन जो मनुष्य मेरी प्रेमपूर्वक आराधना करते हैं। वो मेरे भीतर रहते हैं और मैं उनके जीवन में आता हूं।

जन्म लेने वाले के लिए मृत्यु उतनी ही निश्चित है, जितना कि मृत होने वाले के लिए जन्म लेना। इसलिए जो अपरिहार्य है उस पर शोक मत करो।

जो कोई भी जिस किसी भी देवता की पूजा विश्वास के साथ करने की इच्छा रखता है, मैं उसका विश्वास उसी देवता में दृढ कर देता हूँ।

सदैव संदेह करने वाले व्यक्ति के लिए प्रसन्नता ना इस लोक में है ना ही कहीं और।

मन की गतिविधियों, होश, श्वास, और भावनाओं के माध्यम से भगवान की शक्ति सदा तुम्हारे साथ है।

जो मन को नियंत्रित नहीं करते उनके लिए वह शत्रु के समान कार्य करता है।

तुम खुद अपने मित्र हो और खुद ही अपने शत्रु।

(READ MORE: Love Quotes In Hindi)

bhagavad gita motivational quotes in hindi

मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है,जैसा वो विश्वास करता है वैसा वो बन जाता है।

जो हुआ वह अच्छे के लिए हुआ है, जो हो रहा है वह भी अच्छे के लिए ही हो रहा है, और जो होगा वह भी अच्छे के लिए ही होगा।

जीवन ना तो भविष्य में है और ना ही अतीत में है,  जीवन तो केवल इस पल में है अर्थात इस पल का अनुभव ही जीवन है

जीवन ना तो भविष्य में है और ना ही अतीत में है,  जीवन तो केवल इस पल में है अर्थात इस पल का अनुभव ही जीवन है ।

मनुष्य अपनी वासना के अनुसार ही अगला जन्म पाता है ।

 क्रोध से भ्रम पैदा होता है। भ्रम से बुद्धि व्यग्र होती है। जब बुद्धि व्यग्र होती है तब तर्क नष्ट हो जाता है। जब तर्क नष्ट होता है तब व्यक्ति का पतन हो जाता है।

मन की गतिविधियों, होश, श्वास और भावनाओं के माध्यम से भगवान की शक्ति सदा तुम्हारे साथ है; और लगातार तुम्हे बस एक साधन की तरह प्रयोग कर के सभी कार्य कर रही है।

आत्म-ज्ञान की तलवार से काटकर अपने ह्रदय से अज्ञान के संदेह को अलग कर दो। अनुशाषित रहो। उठो।

 लोग आपके अपमान के बारे में हमेशा बात करेंगे। सम्मानित व्यक्ति के लिए, अपमान मृत्यु से भी बदतर है।

 उससे मत डरो जो वास्तविक नहीं है, ना कभी था ना कभी होगा। जो वास्तविक है, वो हमेशा था और उसे कभी नष्ट नहीं किया जा सकता।

bhagavad gita motivational quotes in hindi

जब वे अपने कार्य में आनंद खोज लेते हैं तब वे पूर्णता प्राप्त करते हैं ।

भय, राग द्वेष और आसक्ति से रहित मनुष्य ही इस लोक और परलोक में सुख पाते हैं।

लोग आपके अपमान के बारे में हमेशा बात करेंगे. सम्मनित व्यक्ति के लिए अपमान मृत्यु से बदतर है।

सदव संदेह करने वाले व्यक्ति के लिए प्रसन्नता ना इस लोक में है और ना ही कहीं और।

व्यक्ति जो चाहे बन सकता है. यदि वह विश्वास के साथ इच्छित वस्तु पर लगातार चिंतन करे।

 मैं सभी प्राणियों को सामान रूप से देखता हूँ; ना कोई मुझे कम प्रिय है ना अधिक। लेकिन जो मेरी प्रेमपूर्वक आराधना करते हैं वो मेरे भीतर रहते हैं और मैं उनके जीवन में आता हूँ।

प्रबुद्ध व्यक्ति सिवाय ईश्वर के किसी और पर निर्भर नहीं करता।

 बुद्धिमान व्यक्ति कामुक सुख में आनंद नहीं लेता।

हे अर्जुन! हम दोनों ने कई जन्म लिए हैं। मुझे याद हैं, लेकिन तुम्हे नहीं।

जीवन न तो भविष्य में है और ना ही अतीत में, जीवन तो बस इस पल में है।

 जो व्यक्ति आध्यात्मिक जागरूकता के शिखर तक पहुँच चुके हैं, उनका मार्ग है निःस्वार्थ कर्म। जो भगवान् के साथ संयोजित हो चुके हैं उनका मार्ग है स्थिरता और शांति।

जब वे अपने कार्य में आनंद खोज लेते हैं तब वे पूर्णता प्राप्त करते हैं।

बुरे कर्म करने वाले, सबसे नीच व्यक्ति जो राक्षसी प्रवित्तियों से जुड़े हुए हैं, और जिनकी बुद्धि माया ने हर ली है वो मेरी पूजा या मुझे पाने का प्रयास नहीं करते।

मैं सभी प्राणियों के ह्रदय में विद्यमान हूँ।

अपने अनिवार्य कार्य करो, क्योंकि वास्तव में कार्य करना निष्क्रियता से बेहतर है।

ऐसा कुछ भी नहीं, चेतन या अचेतन, जो मेरे बिना अस्तित्व में रह सकता हो।

आत्म-ज्ञान की तलवार से काटकर अपने ह्रदय से अज्ञान के संदेह को अलग कर दो। अनुशाषित रहो। उठो।

 मन की गतिविधियों, होश, श्वास और भावनाओं के माध्यम से भगवान की शक्ति सदा तुम्हारे साथ है; और लगातार तुम्हे बस एक साधन की तरह प्रयोग कर के सभी कार्य कर रही है।

 भगवान प्रत्येक वस्तु में है और सबके ऊपर भी।

मन अशांत है और उसे नियंत्रित करना कठिन है, लेकिन अभ्यास से इसे वश में किया जा सकता है ।

आपके सार्वलौकिक रूप का मुझे न प्रारंभ न मध्य न अंत दिखाई दे रहा है।

This Post Has 3 Comments

Leave a Reply